समर्थक

सोमवार, मार्च 18, 2013

क्रिकेट में दिखा आजमगढ़ कनेक्शन

सरफराज खान उस वक्त आजमगढ़ के अपने गांव बासूपार में थे. वहीं उन्होंने सुना कि मुंबई के हैरिस शील्ड अंडर-16 टूर्नामेंट में अरमान जाफर ने 473 रन बनाकर उनका 439 रनों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. मुंबर्ई में रहने वाले अपने क्रिकेट कोच पिता नौशाद के साथ सरफराज आजमगढ़ गए थे. आजमगढ़ में छिपी हुई क्रिकेट प्रतिभाओं को ढूंढ़ निकालने और उन्हें मुंबई में मौका देने का श्रेय नौशाद को ही जाता है.
 
नौशाद उत्तर प्रदेश के कस्बेनुमा शहर आजमगढ़ की एक ऐसी कड़ी हैं जो प्रतिभाशाली खिलाडिय़ों को मुंबर्ई पहुंचाते रहते हैं. क्रिकेट की दुनिया में नाम कमाने की चाहत रखने वाले युवाओं के लिए क्रिकेट की राजधानी मुंबई में वे खुद भी किसी अहम मुकाम से कम नहीं हैं. लेफ्ट आर्म स्पिनर इकबाल अब्दुल्ला घरेलू टूर्नामेंटों में मुंबई की ओर से खेलते हैं और आइपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स की ओर से. नौशाद के चुने हुए कामयाब खिलाडिय़ों की जमात की उम्दा मिसाल हैं अब्दुल्ला.

आजमगढ़ के दूसरे खिलाड़ी हैं बाएं हाथ के तेज गेंदबाज कामरान खान. उन्होंने आइपीएल 2009 में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलते हुए अहम छाप छोड़ी थी. पर तभी गेंद फेंकने के उनके अंदाज पर सवाल उठ खड़े हुए. नोमान खान भी आजमगढ़ के सरायमीर के तेज गेंदबाज हैं, जिन्हें आइपीएल में कुछ सीरीज पहले मुंबई इंडियंस ने अपने लिए अनुबंधित किया था. वे भी नौशाद के ही ढूंढ़े हुए सितारे हैं.

पूर्व क्रिकेटर और अब कोच नौशाद अपने इस काम के बारे में बताते हैं, “मैं हर साल बासूपुर गांव (आजमगढ़ शहर से कुछ किलोमीटर दूर) जाता हूं. लेकिन घर में मैं कम ही रह पाता हूं. घर तो मैं सिर्फ रात में सोने के लिए ही आता हूं. मैं सरफराज के साथ अभ्यास सत्र आयोजित करता रहता हूं और प्रतिभावान बच्चों को ढूंढ़ता रहता हूं.” इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान वे खिलाडिय़ों को प्रेरित करने की अपनी शैली के बारे में बताते हैं, “मैं कुछ मशहूर शायरों के शेर उन नौजवानों को सुनाता हूं. जैसे यही कि एक पत्थर की भी तक़दीर बदल सकती है, शर्त ये है के सलीक़े से तराशा जाए.

अरमान जहां पढ़ रहे हैं, उस रिजवी स्प्रिंगफील्ड स्कूल के कोच राजू पाठक भी उत्तर प्रदेश में बस्ती जिले की हर्रैया तहसील के हैं. वे बताते हैं कि मुंबई में जो गैर-मराठी बच्चे क्रिकेट खेलने आते हैं, उनका महाराष्ट्र के इस राजधानी शहर में कोई न कोई संपर्क जरूर रहता है. इनमें से कई तो स्प्रिंगफील्ड स्कूल के हॉस्टल में रहते हैं. हम प्रतिभाशाली बच्चों से कोई फीस नहीं लेते. ऊपर से उन्हें क्रिकेट की किट वगैरह भी देते हैं.” यह स्कूल एक ऐसी जगह है जहां क्रिकेट में प्रतिभा रखने वाले बच्चों को उत्साह और आश्रय मिलता है.

लेकिन मुंबर्ई के बाहर से आने वाले और स्थानीय प्रतिभाओं को चुनौती देने वालों के लिए कई बार राह आसान नहीं होती है. मुंबर्ई क्रिकेट एसोसिएशन के एक अधिकारी सचाई बयान करते हैं, “मुंबई वाला भी सैकड़ा मारता है और मुंबर्ई के बाहर वाला भी 100 रन बनाता है तो उसे कोई फायदा नहीं होने का. बाहर से आए खिलाड़ी को नजर में आने के लिए 150-200 रन बनाने होंगे. मुंबर्ई में आकर क्रिकेट में किस्मत आजमाने वालों के लिए थोड़ा भेदभाव तो है.”

सौजन्‍य: इंडिया टुडे